मंगलवार, 19 जून 2012

आत्मदर्शन

बस दो चार किताबें,
पढ  कर ,
थोडा सा ज्ञान इकठ्ठा कर के,
 मैं बन जाना चाहती हूँ ,
ज्ञानी, विचार, दार्शनिक ,
बिना साधना किये ही,
पा लेना चाहती हूँ,
लक्ष्य को,
बिना अपने अंतर्मन में झांके ही,
पा लेना चाहती हूँ आत्मज्ञान ,
भूल जाती हूँ ,
 स्वयं को जानने के लिए,
मुझे झाकना पड़ेगा ,
अपने ही अन्दर,
बहुत गहराइयों में,
जहाँ से निकलेंगी ,
ज्ञान की तरंगे,
जो कराएंगी,
मेरा साक्षातकार ,
सत्य से,
किन्तु उस गहराई तक जाने के लिए,
मुझे उतार देना हो,
व्यर्थ किताबी ज्ञान का बोझ,
और बन जाना होगा,
एक जिज्ञासू ,
निश्छल, निष्पाप,
सत्य जानने को उत्सुक ,
बिलकुल उसी प्रारंभिक अवस्था में,
जहाँ मैं  थी,
एक अबोध बच्चे की तरह।
 

16 टिप्‍पणियां:

  1. आत्ममीमांसा इसीलिए बहुत मुह्स्किल होती है, क्योंकि सही तरीका नहीं अपनाते हम. बहुत सुन्दर बात कही है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ...बहुत ही बढिया प्रस्‍तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. sach kaha apne man ki kitab ko saaf karna pahla aur jaruri kaam hai.
    sunder prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्तर
    1. anju ji protsahan ke liye dhanyvad, apse bat karke achcha laga, bahut kuch janne ko mila, asha hai age bhi ap isi tarah mera margdarshan karengi

      हटाएं
  5. पोथी पढ़ि-पढ़ि जग मुआ पंडित भया न कोय !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ढाई अक्षर प्रेम का पढ़े सो पंडित होई,,,, स्वागत मेरे ब्लॉग पर

      हटाएं